s
By: RF competition   Copy   Share  (5) 

लोक प्रशासन में सांवेगिक (भावात्मक) बुद्धि की उपयोगिता | Use of Emotional (Affective) Intelligence in Public Administration

3408

लोक प्रशासन में सांवेगिक बुद्धि की उपयोगिता निम्न बिंदुओं के आधार पर समझायी जा सकती है-

Use of emotional intelligence in public administration can be explained on the basis of following points-

1. वर्तमान में शासन के प्रशासकों को ऐसे परिवेश में कार्य करना पड़ रहा है, जहाँ पर उन्हें अनेक प्रकार की चुनौतियों, समस्याओं और दबावों का सामना करना पड़ रहा है। उदाहरण के लिए सीमित वित्तीय संसाधनों में उच्च लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए दबाव, पुलिस अथवा प्रशासन के विरुद्ध हिंसात्मक प्रदर्शन, आर्थिक विषमता और बेरोजगारी की वजह से सरकार के प्रति असंतोष, प्राकृतिक आपदाओं की चुनौतियाँ, राजनीतिक दबाव, मीडिया का दबाव आदि। इन सभी चुनौतियों और दबावों का समाधान करने के लिए प्रशासक का सांवेगिक बुद्धि से युक्त होना आवश्यक है। इस बुद्धि से युक्त प्रशासक ही अन्य लोगों की तुलना में भावनाओं के बेहतर प्रबंधन करने की क्षमता रखता है।

1. Presently the administrators of governance have to work in an environment where they have to face many types of challenges, problems and pressures. Used to be. For example, pressure to achieve higher goals with limited financial resources, violent demonstrations against police or administration, dissatisfaction with the government due to economic inequality and unemployment, challenges of natural calamities, political pressure, media pressure etc. To solve all these challenges and pressures, it is necessary for the administrator to have emotional intelligence. An administrator with this intelligence has the ability to manage emotions better than other people.

इन 👇एतिहासिक महत्वपूर्ण प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. विश्व की प्रथम चार सभ्यताएँ- मेसोपोटामिया, मिस्र, सिंधु, और चीनी सभ्यता
2. भारत का इतिहास- प्राचीन भारतीय इतिहास के अध्ययन के पुरातात्विक स्रोत।
3. भारत का इतिहास- प्राचीन भारतीय इतिहास जानने के साहित्यिक स्त्रोत- वेद
4. भारत का इतिहास- सिंधु सभ्यता के प्रमुख स्थल
5. सिन्धु सभ्यता में जीवन

2. समान लक्ष्य प्राप्त करने के लिए किया जाने वाला सरकारी प्रयास ही 'प्रशासन' कहलाता है। इस लक्ष्य की सफलता लोगों के समन्वय, समर्पण, प्रतिबद्धता और कर्तव्य पालन पर निर्भर करती है। शासन में अक्सर ऐसा देखा जाता है कि एक ओर कुछ अधिकारी अपने सहकर्मी और अधीनस्थों से बेहतर तालमेल स्थापित करते हुए बेहतरीन कार्य करते हैं और अपेक्षित नतीजे देने में सफल होते हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ अधिकारी अपने अधीनस्थ और सहकर्मियों के साथ विवाद में ही उलझे रहते हैं और अपेक्षित परिणाम नहीं दे पाते। इसका प्रमुख कारण अधिकारियों में सांवेगिक बुद्धि का अभाव होना है।

2. The government effort to achieve the same goal is called 'administration'. The success of this goal depends on the coordination, dedication, commitment and duty of the people. In governance, it is often seen that on the one hand some officers do excellent work by establishing better coordination with their colleagues and subordinates and are successful in giving the expected results. On the other hand some officers remain involved in disputes with their subordinates and colleagues and are not able to give expected results. The main reason for this is the lack of emotional intelligence in the officers.

3. लोक प्रशासन में प्रशासक पर समाज और राष्ट्र की सेवा की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी होती है। इसके अतिरिक्त शासन की प्रतिकूल परिस्थितियों में कार्य प्रेरणा बनाए रखना भी अधिकारी की जिम्मेदारी होती है। अतः इसके लिए सांवेगिक बुद्धि का होना आवश्यक है।

3. In public administration the administrator has an important responsibility to serve the society and the nation. Apart from this, it is also the responsibility of the officer to maintain work motivation in adverse conditions of the government. Therefore, it is necessary to have emotional intelligence for this.

4. लोक प्रशासन में प्रशासकों को बड़ी-बड़ी योजनाओं और परियोजनाओं को पूर्ण करने के लिए कई व्यावहारिक चुनौतियों और समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इन कार्यों को सफल करने हेतु प्रशासक का सांवेगिक बुद्धि से युक्त होना आवश्यक है। सांवेगिक की बुद्धि से युक्त प्रशासक ही स्वयं को और अपने सहकर्मियों को लक्ष्य प्राप्ति के लिए अभिप्रेरित करने में सक्षम होता है।

4. In public administration administrators have to face many practical challenges and problems to complete the big plans and projects. To succeed in these tasks, it is necessary for the administrator to have emotional intelligence. An administrator with emotional intelligence is able to motivate himself and his co-workers to achieve goals.

ब्रह्माण्ड एवं खगोल विज्ञान के इन 👇 प्रकरणों के बारे में भी जानें।
1. ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति
2. खगोलीय पिण्ड
3. तारों का जन्म एवं मृत्यु
4. सौरमंडल की संरचना
5. सौरमंडल के पिण्ड
6. सौर मंडल के ग्रह एवं उपग्रह की विशेषताएँ

5. अधिकांशतः प्रशासन में अलग-अलग जाति, धर्म, संप्रदाय और भाषा के लोग रहते हैं। ये लोग अलग-अलग योजनाओं, मुद्दों और कार्यक्रमों पर अपना अलग-अलग मत रख सकते हैं। इन सब लोगों में समन्वय स्थापित करना आवश्यक होता है। समन्वय स्थापित होने से संबंधित कार्य हेतु एक स्वस्थ संस्कृति का निर्माण होता है। यह कार्य केवल सांवेगिक बुद्धि से युक्त प्रशासक ही कर सकता है।

5. Mostly people of different caste, religion, sect and language live in administration. These people can have different views on different schemes, issues and programmes. It is necessary to establish coordination among all these people. A healthy culture is created for the work related to coordination. This task can only be done by an administrator with emotional intelligence.

6. प्रशासन की सफलता के लिए उत्तरदायित्व की भावना का होना महत्वपूर्ण है। एक उच्च सांवेगिक बुद्धि से युक्त प्रशासक ही हमेशा उत्तरदायित्व लेने के लिए तैयार रहता है। उदाहरण के लिए सांवेगिक बुद्धि से युक्त प्रशासक सफलता का श्रेय अपने सहकर्मियों को और असफलता की जिम्मेदारी स्वयं लेते हैं।

6. A sense of responsibility is important for the success of administration. An administrator with high emotional intelligence is always ready to take responsibility. For example, administrators with emotional intelligence tend to attribute success to their co-workers and to themselves for failure.

7. लोकतंत्र में आर्थिक-सामाजिक न्याय स्थापित करने, उसे मजबूती प्रदान करने, राष्ट्रीय एकता तथा अखंडता को बनाए रखने के लिए सांवेगिक बुद्धि का होना आवश्यक है।

7. Emotional intelligence is necessary to establish economic-social justice in a democracy, to strengthen it, to maintain national unity and integrity.

इस 👇 बारे में भी जानें।
1. भारतीय संविधान के स्रोत
2. भारतीय संविधान का निर्माण
3. भारतीय संवैधानिक विकास के चरण
4. अंग्रेजों का चार्टर एक्ट क्या था
5. अंग्रेजों का भारत शासन अधिनियम
6. अंग्रेज कालीन – भारतीय परिषद् अधिनियम
7. भारतीय संविधान की प्रस्तावना की प्रकृति व महत्व

आशा है, यह जानकारी परीक्षा प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के लिए उपयोगी एवं महत्त्वपूर्ण होगी।
धन्यवाद।
RF competition



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe