s
By: RF competition   Copy   Share  (438) 

अभिलेख क्या होते हैं? | प्राचीन भारत के प्रमुख अभिलेख

5560

अभिलेख की परिभाषा

प्राचीन काल में किसी विशेष जानकारी (जैसे– राजा की उपलब्धियाँ, युद्ध विजय, अच्छे कार्य, शासन से सम्बन्धित घोषणाएँ आदि) के विषय में अधिकांश प्रजाजनों और दूसरे प्रान्त के लोगों को बताने के लिए शिलाओं, स्तंभों, ताम्रपत्रों, दीवारों, प्रतिमाओं आदि पर लेख उत्कीर्णित किये जाते थे। इन लेखों को 'अभिलेख' कहा जाता है। प्राचीन भारत के कुछ अभिलेख वर्तमान में भी उपलब्ध हैं। ये अभिलेख प्राचीन भारतीय इतिहास के पुनर्निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। ये अभिलेख प्राचीन भारत के प्रमुख पुरातात्विक स्रोत हैं। अभिलेखों के अध्ययन को 'एपिग्रेफी' कहा जाता है।

इतिहास के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of History.)
1. प्राचीन भारतीय इतिहास जानने के स्त्रोत | पुरातात्विक स्त्रोत और साहित्यिक स्त्रोत || Sources To Know Ancient Indian History
2. मगध का हर्यक वंश– बिम्बिसार, अजातशत्रु, उदायिन, नागदशक
3. मगध का नन्द वंश– महापद्मनन्द, धनानन्द

अभिलेखों के उदाहरण

विश्व की सबसे प्राचीन अभिलेखों में मध्य एशिया के बोगजकोई से प्राप्त अभिलेख है। इस अभिलेख से ऋग्वेद की तिथि ज्ञात करने में सहायता प्राप्त होती है। इस अभिलेख पर वैदिक देवता– मित्र, वरुण, इन्द्र और नासत्य के नाम मिलते हैं। भारत के सन्दर्भ में सबसे प्राचीन अभिलेख सम्राट अशोक के हैं। ये अभिलेख लगभग 300 ईसा पूर्व के हैं। डी.आर. भण्डारकर नामक विद्वान ने केवल अभिलेखों के आधार पर सम्राट अशोक का इतिहास लिखने का सफल प्रयास किया है। सम्राट अशोक के बहुत से अभिलेख प्राप्त हुए हैं। ये अभिलेख ब्राह्मी, खरोष्ठी, यूनानी और अरामाइक लिपियों में लिखे हुए हैं। मास्की, गुर्जरा, निट्टूर और उदेगोलम से प्राप्त अभिलेखों में सम्राट अशोक का नाम स्पष्ट रुप से लिखा प्राप्त हुआ है। इसके अतिरिक्त अन्य अभिलेखों में सम्राट अशोक को 'देवानांपिय पियदसि' अर्थात् 'देवों को प्यारा' कहकर सम्बोधित किया गया है। सम्राट अशोक के पश्चात् भी अभिलेखों की परम्परा जारी रही। इसके पश्चात् अनेक प्रशस्तियाँ प्राप्त होने लगी। इन प्रशस्तियों में दरबारी कवियों और लेखकों द्वारा अपने आश्रयदाताओं की प्रशंसा की गई है।

इतिहास के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of History.)
1. चक्रवर्ती सम्राट राजा भोज | Chakravarti Samrat Raja Bhoj
2. समुद्रगुप्त और नेपोलियन के गुणों की तुलना | Comparison Of The Qualities Of Samudragupta And Napoleon
3. भारतीय इतिहास के गुप्त काल की प्रमुख विशेषताएँ | Salient Features Of The Gupta Period Of Indian History
4. आर्य समाज- प्रमुख सिद्धांत एवं कार्य | Arya Samaj - Major Principles And Functions
5. सम्राट हर्षवर्धन एवं उनका शासनकाल | Emperor Harshavardhana And His Reign

प्राचीन भारत की प्रशस्तियाँ

प्राचीन भारत की प्रमुख प्रशस्तियाँ (जिन अभिलेखों में शासकों की प्रशंसा की गई है) एवं उनसे सम्बन्धित प्रमुख जानकारियाँ निम्नलिखित हैं–
1. हाथीगुम्फा अभिलेख– यह उड़ीसा के शासक खारवेल का अभिलेख है। इस अभिलेख में खारवेल के शासन की घटनाओं का क्रमबद्ध विवरण दिया गया है।
2. गिरनार अभिलेख (जूनागढ़ अभिलेख)– यह रुद्रदामन से सम्बन्धित अभिलेख है। इसमें रुद्रदामन की विजयों, व्यक्तित्व और कृतित्व का वर्णन किया गया है।
3. नासिक अभिलेख– इस अभिलेख की रचना गौतमी बलश्री (गौतमीपुत्र शातकर्णी की माता) ने की थी। यह अभिलेख गौतमीपुत्र शातकर्णी से सम्बन्धित है। इस अभिलेख में सातवाहन कालीन घटनाओं का वर्णन किया गया है।
4. प्रयाग स्तंभ लेख– यह अभिलेख गुप्त वंश के यशस्वी सम्राट समुद्रगुप्त से सम्बन्धित है। इस अभिलेख में उनकी विजयों और नीतियों का विवरण दिया गया है।
5. ऐहोल अभिलेख– यह पुलकेशिन द्वितीय से सम्बन्धित अभिलेख है। इस अभिलेख में हर्ष और पुलकेशिन द्वितीय के युद्ध का वर्णन है।
6. भीतरी स्तंभ लेख– यह अभिलेख गुप्त वंश के शासक स्कंदगुप्त से सम्बन्धित है। इस अभिलेख में उनके जीवन की अनेक महत्वपूर्ण घटनाओं का विवरण दिया गया है।
7. मंदसौर अभिलेख– यह अभिलेख मालवा नरेश यशोवर्मन से सम्बन्धित है। इसमें सैनिक उपलब्धियों का वर्णन है।
8. गरुड़ स्तंभ लेख– यह गैर-सरकारी लेख है। यह यवन राजदूत हेलियोडोरस का अभिलेख है। यह अभिलेख विदिशा (वेसनगर) से प्राप्त हुआ है। इस अभिलेख से द्वितीय शताब्दी ईसा पूर्व में मध्य भारत में भागवत धर्म विकसित होने की जानकारी प्राप्त होती है।

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
1. जीवमण्डल क्या है? | जीवमण्डल की विशेषताएँ || What Is Biosphere? || Characteristics Of The Biosphere
2. भूकम्प से होने वाले लाभ एवं हानियाँ | Advantages And Disadvantages Of Earthquake
3. अमाशय क्या है? | अमाशय की कार्यप्रणाली || What Is Stomach? | Gastric Function
4. वास्तविक और आभासी प्रतिबिम्ब किसे कहते हैं? | What Are Real And Virtual Images Called?
5. उदासीनीकरण अभिक्रिया और इसके उदाहरण | Neutralization Reaction And Its Examples

भूगोल के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of Geography.)
1. विश्व की प्रमुख जलसंधियाँ | Major Straits Of The World
2. ऊर्जा के पारंपरिक और गैर-पारंपरिक स्रोत | Conventional And Non-Conventional Sources Of Energy
3. सूर्य क्या है? | नाभिक, प्रकाश मण्डल, वर्ण मण्डल || What Is Sun? | Nucleus, Photosphere, Chromosphere
4. ग्रह क्या है? | पार्थिव ग्रह और जोवियन ग्रह || What Is Planet? | Terrestrial Planets And Jovian Planets



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe