s
By: RF competition   Copy   Share  (426) 

मगध का नन्द वंश– महापद्मनन्द, धनानन्द

1272

नन्द वंश का संस्थापक महापद्मनन्द था। उसके आठ पुत्र थे। महापद्मनन्द और उसके आठ पुत्रों ने लगभग 344 ईसा पूर्व से 324-25 ईसा पूर्व तक शासन किया। इन शासकों ने लगभग 21 वर्षों तक शासन किया। इसके पश्चात् इनके वंश का अन्त हो गया।

इतिहास के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of History.)
1. प्राचीन भारतीय इतिहास जानने के स्त्रोत | पुरातात्विक स्त्रोत और साहित्यिक स्त्रोत || Sources To Know Ancient Indian History
2. मगध का हर्यक वंश– बिम्बिसार, अजातशत्रु, उदायिन, नागदशक

महापद्मनन्द

महापद्मनन्द ने मगध पर नन्द वंश की नींव रखी थी। पुराणों के अनुसार वह एक शूद्र था। इन पुराणों में उसे 'सर्वक्षत्रांतक' अर्थात् 'समस्त क्षत्रियों का विनाश करने वाला' तथा 'भार्गव' अर्थात् 'दूसरे परशुराम का अवतार' कहा गया है। महापद्‌मनन्द ने एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की तथा 'एकराट' एवं 'एकक्षत्र' जैसी उपाधियाँ धारण की। महापद्मनन्द के आठ पुत्र थे। धनानन्द भी उसका पुत्र था। धनानन्द नन्द वंश का अन्तिम शासक था।

इतिहास के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of History.)
1. चक्रवर्ती सम्राट राजा भोज | Chakravarti Samrat Raja Bhoj
2. समुद्रगुप्त और नेपोलियन के गुणों की तुलना | Comparison Of The Qualities Of Samudragupta And Napoleon
3. भारतीय इतिहास के गुप्त काल की प्रमुख विशेषताएँ | Salient Features Of The Gupta Period Of Indian History
4. आर्य समाज- प्रमुख सिद्धांत एवं कार्य | Arya Samaj - Major Principles And Functions
5. सम्राट हर्षवर्धन एवं उनका शासनकाल | Emperor Harshavardhana And His Reign

धनानन्द

धनानन्द नन्द वंश का अंतिम शासक था। वह सिकन्दर का समकालीन था। उसके शासनकाल के दौरान 326 ईसा पूर्व को भारत की पश्चिमोत्तर सीमा पर सिकन्दर ने आक्रमण किया था। यूनानी (ग्रीक) लेखकों ने धनानन्द को 'अग्रमीज' कहा था। धनानन्द ने मगध की प्रजा पर बहुत से कर लगाये थे। इस कारण जनता उससे असन्तुष्ट थी। तक्षशिला के आचार्य चाणक्य धनानन्द के राजदरबार में आये थे। धनानन्द ने उनका अपमान किया था। लगभग 323 ईसा पूर्व के दौरान चन्द्रगुप्त मौर्य ने अपने गुरू चाणक्य की सहायता से धनानन्द को पदच्युत कर दिया और मगध पर एक नए वंश मौर्य वंश की नींव रखी। मौर्य शासकों के शासनकाल के दौरान मगध अपने चर्मोत्कर्ष पर पहुँच गया।

"भारतीय कला एवं संस्कृति" के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of "Indian Art and Culture".)
1. मध्यकालीन भारत में वास्तुकला- इंडो इस्लामिक (भारतीय-अरबी) शैली | Architecture In Medieval India- Indo Islamic Style
2. दिल्ली सल्तनत काल के दौरान वास्तुकला- साम्राज्यिक शैली | Architecture During The Delhi Sultanate Period- Imperial Style
3. भारतीय कला- बंगाल शैली, जौनपुर शैली, मालवा शैली और बीजापुर शैली | Bengal Style, Jaunpur Style, Malwa Style And Bijapur Style
4. मुगल वास्तुकला- बाबर, हुमायूँ और शेरशाह सूरी | Mughal Architecture- Babur, Humayun And Sher Shah Suri
5. मुगल सम्राट अकबर द्वारा निर्मित करवाये गये महत्वपूर्ण वास्तुशिल्प | Important Architectures Built By The Mughal Emperor Akbar

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
1. भारत का पर्यटन स्थल– महेश्वर (महिष्मति) | Tourist Place Of India– Maheshwar (Mahishmati)
2. प्राणवायु– ऑक्सीजन | Pranavayu– Oxygen
3. दूध पीने के फायदे | Benefits Of Drinking Milk
4. नींबू पानी पीने के फायदे | Benefits Of Drinking Lemon Water
5. अच्छे स्वास्थ्य के लिए विटामिन C क्यों आवश्यक है? | Why Is Vitamin C Essential For Good Health?



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe