s
By: RF competition   Copy   Share  (367) 

संसाधनों का वर्गीकरण – वितरण के आधार पर | Classification Of Resources – On Distribution Basis

689

वितरण के आधार पर संसाधनों को निम्नलिखित भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है–
1. सर्व सुलभ संसाधन
2. सामान्य सुलभ संसाधन
3. विरल संसाधन
4. एकल संसाधन।

On the basis of distribution resources can be classified into the following parts–
1. Accessible Resource
2. Commonly Accessible Resource
3. Rare Resource
4. Single resource.

भूगोल के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of Geography.)
संसाधनों का वर्गीकरण– स्वामित्व और पुनः पुर्ति के आधार पर | Classification Of Resources– On Ownership And Replenishment Basis

सर्व सुलभ संसाधन (Accessible Resource)

वे संसाधन जो संसार में सभी स्थानों पर उपलब्ध हैं, 'सर्व सुलभ संसाधन' कहलाते हैं।
जैसे– हवा आदि।

The resources which are available at all places in the world are called 'all accessible resources'.
Eg– air etc.

भूगोल के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of Geography.)
मानव जीवन में संसाधनों का महत्व | Importance Of Resources In Human Life

सामान्य सुलभ संसाधन (Commonly Accessible Resource)

ऐसे संसाधन जो संसार में अधिकांश स्थानों पर उपलब्ध हैं, 'सामान्य सुलभ संसाधन' कहलाते हैं।
जैसे– उपजाऊ भूमि, जल, मिट्टी आदि।

The resources which are available in most of the places in the world are called 'commonly accessible resources'.
Like– fertile land, water, soil etc.

भूगोल के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of Geography.)
नवीकरणीय और अनवीकरणीय संसाधन | Renewable And Non-Renewable Resources

विरल संसाधन (Rare Resource)

वे संसाधन जो संसार में सीमित स्थानों पर उपलब्ध हैं, 'विरल संसाधन' कहलाते हैं।
उदाहरण– सोना, चाँदी, पेट्रोलियम, कोयला, यूरेनियम आदि।

The resources which are available in limited places in the world are called 'sparse resources'.
Example– Gold, Silver, Petroleum, Coal, Uranium etc.

भूगोल के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of Geography.)
जैव और अजैव संसाधन | Biotic And Abiotic Resources

एकल संसाधन (Single resource)

वे संसाधन जो संसार में केवल एक या दो स्थानों पर उपलब्ध हैं, 'एकल संसाधन' कहलाते हैं।
जैसे– क्रोमोलाइट धातु प्राकृतिक रूप से केवल ग्रीनलैंड में ही प्राप्त हो सकती है।

The resources which are available in only one or two places in the world are called 'single resource'.
For example, chromolite metal can be found naturally only in Greenland.

भूगोल के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of Geography.)
संसाधन किसे कहते हैं? | संसाधनों के प्रकार || Who Are The Resources?

भूगोल के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of Geography.)
1. भारतीय वनस्पति के प्रकार एवं विशेषताएँ | Types And Characteristics Of Indian Plants
2. भारत में उष्ण कटिबंधीय सदाबहार वन (वर्षा वन) | Tropical Evergreen Forest (Rain Forest) In India
3. भारत में उष्ण कटिबंधीय पर्णपाती वन (मानसूनी वन) | Tropical Deciduous Forest (Monsoon Forest) In India
4. नागफनी की पत्तियाँ छोटी और काटेदार क्यों होती हैं? | भारत में कटीले वन एवं झाड़ियाँ | Information About Thorny Forests
5. पर्वतीय क्षेत्रों के वृक्ष शंकुधारी क्यों होते हैं? | पर्वतीय वन || Mountain Forests



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe