s
By: RF competition   Copy   Share  (28) 

रेशमकीट पालन एवं रेशम उत्पादन | Sericulture and Silk Production

2532

रेशम के कीड़े का पालन रेशम उत्पादन के लिए किया जाता है। इसे 'रेशमकीट पालन' करते हैं। इस कीट की उत्पत्ति चीन में हुई थी। वर्तमान में यह कीट भारत, जापान, रूस, ब्राजील, इटली, फ्रांस जैसे देशों में भी रेशमकीट पालन किया जाता है।

Silk worms are reared for silk production. This is called 'silkworm rearing'. This insect originated in China. Presently this insect is also reared in countries like India, Japan, Russia, Brazil, Italy, France.

रेशम की खोज 2600 ईसा पूर्व में चीन में हुई थी। इसका प्रयोग वस्त्र बनाने हेतु किया जाता है। वर्तमान में संयुक्त राज्य में रेशम की सबसे ज्यादा पैदावार होती है। रेशम का उत्पादन रेशम कीट के कैटरपिलर से किया जाता है। यह तरल रूप में होता है। हवा के संपर्क में आने पर यह कड़ा हो जाता है। रेशम कीट से प्राप्त यह कड़ा पदार्थ चमकदार, महीन और मुलायम होता है। इसे 'सिल्क' के नाम से जाना जाता है। यह फाइब्रिन प्रोटीन से निर्मित होता है। रेशम उत्पादन में सर्वाधिक इस्तेमाल किया जाने वाला रेशम कीट बॉम्बेक्स मोरी है। रेशम संसार का सबसे मजबूत प्राकृतिक रेशा है।

Silk was discovered in China in 2600 BC. It is used for making clothes. Currently United States has the highest yield of silk. Silk is produced from the caterpillar of the silkworm. It occurs in liquid form. It hardens when exposed to air. This hard material obtained from silkworm is shiny, fine and soft. It is known as 'silk'. It is made from fibrin protein. The most commonly used silkworm in silk production is Bombex mori. Silk is the strongest natural fiber in the world.

इन 👇परीक्षापयोगी प्रकरणों के बारे में भी जानें।
1. जांतव रेशे
2. प्राणियों में पोषण- पाचन तंत्र
3. पादपों में पोषण- प्रकाश संश्लेषण
4. विज्ञान की शाखाएँ-जीवधारियों का नामकरण व वर्गीकरण
5. पारिस्थितिकी तंत्र जैविक एवं अजैविक घटक
6. रक्त का विज्ञान

रेशम के कीड़े के आधार पर रेशम निम्न प्रकार के हो सकते हैं-
1. शहतूत रेशम- इस रेशम को शहतूत की पत्ती पर पाए जाने वाले कीट से प्राप्त किया जाता है। यह उच्च गुण वाला होता है।
2. इरी रेशम- इरी रेशम अरंडी के पेड़ पर पाए जाने वाले फिलोसोमिया रिसिनी तथा एकाटस रिसिनी से बनता है। यह रेशम सफेद रंग का होता है। इस पर.कम चमक होती है।
3. टसर रेशम- यह एन्थेरिया पेफिया के कैटरपिलर से बनता है। यह कीट ओक, अर्जुन और साल के वृक्ष पर उपस्थित होता है। इस कीट का रंग तांबे के समान होता है।
4. मूगा रेशम- यह एन्थेरिया एसामेनसिस से बनता है। इस कीट का रंग पीला होता है।

Silk was discovered in China in 2600 BC. It is used for making clothes. Currently United States has the highest yield of silk. Silk is produced from the caterpillar of the silkworm. It occurs in liquid form. It hardens when exposed to air. This hard material obtained from silkworm is shiny, fine and soft. It is known as 'silk'. It is made from fibrin protein. The most commonly used silkworm in silk production is Bombex mori. Silk is the strongest natural fiber in the world.

इन 👇परीक्षापयोगी प्रकरणों के बारे में भी जानें।
1. मानव नेत्र की दृष्टि दोष- निकट, दूर दृष्टि
2. जैव प्रौद्योगिकी एवं इसके प्रयोग
3. सब्जियों एवं फलों के रंगों एवं स्वाद के कारण
4. मधुमक्खी पालन एवं शहद उत्पादन
5. एक्वाकल्चर (जलीय जीव पालन) एवं इनके उपयोग

रेशम उत्पादन- रेशम, रेशम के कीट के कोकून निर्माण के समय उसके कैटरपिलर से बनता है। यह एक गीला स्रावण है। रेशम उत्पादन का सर्वाधिक उपयोगी कीट बॉम्बेक्स मोरी है। कोकून सफेद व पीले रंग का होता है। इसका आकार 2.5 × 1.5 सेंटीमीटर तथा इसकी संरचना गोल होती है। रेशम उत्पादन की प्रक्रिया को पश्च कोकून प्रक्रिया के नाम से जाना जाता है। इस प्रक्रिया के प्रमुख चरण निम्नलिखित हैं-
1. सर्वप्रथम स्टिफलिंग प्रक्रिया में कोकून को गर्म पानी, सूखी भाप और सूर्य की किरणों द्वारा सुखाया तथा मारा जाता है।
2. इसके बाद रेशम के धागे को मृत को मृत कोकून से बाहर निकाला जाता है। फिर इसके चार-पाँच धागों को लपेटकर एक धागा बनाया जाता है। इसे कच्चा रेशम कहते हैं।

Silk Production- Silk is produced by the caterpillars of the silkworm during its cocoon formation. This is a wet discharge. The most useful insect in sericulture is Bombyx mori. The cocoon is white and yellow in colour. Its size is 2.5 × 1.5 cm and its structure is round. The process of silk production is known as post cocoon process. Following are the major steps of this process-
1. First in the stifling process the cocoons are dried and killed by hot water, dry steam and sun rays.
2. After this the dead silk thread is pulled out of the dead cocoon. Then four or five threads are wrapped to make a thread. It is called raw silk.

इन 👇 प्रकरणों के बारे में भी जानें।
1. पादपों में पोषण- प्रकाश संश्लेषण
2. जैविक कृषि– कृषि की एक प्रमुख विधि
3. भारत में कृषि

रसायन विज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. रसायन विज्ञान की प्रमुख शाखाएँ, विभिन्न क्षेत्रों में योगदान और शोध व अध्ययन के संस्थान
2. रसायनज्ञ- डॉ. प्रफुल चंद राय, डॉ. हरगोविंद सिंह खुराना, लेवोजिए
3. डाल्टन का परमाणु वाद एवं इसकी अवधारणाएँ
4. आधुनिक परमाणुवाद तथा अणु और परमाणु में अंतर
5. रासायनिक संयोग के नियम

रेशम में चमक लाने के लिए इसे उबाला तथा खींचा जाता है। इसके बाद उसे अम्ल द्वारा धोया जाता है। इस प्रक्रिया के परिणामस्वरुप रेशम के धागे रेशे में परिवर्तित हो जाते हैं।

Silk is boiled and stretched to make it shine. It is then washed by acid. As a result of this process silk threads are converted into fibre.

टीप- रेशम रेशे में प्रमुख रूप से 75% फाइब्रिन प्रोटीन तथा 25% सिरिसिन प्रोटीन उपस्थित होता है।

Tip- Silk fiber mainly contains 75% fibrin protein and 25% sericin protein happens.

इन 👇 प्रकरणों के बारे में भी जानें।
1. भारत में पशुपालन- गायों की प्रमुख नस्लें
2. भारत के मसाले एवं उनकी खेती
3. राज्यवार भारतीय फसलें

आशा है, उपरोक्त जानकारी परीक्षार्थियों / विद्यार्थियों के लिए ज्ञानवर्धक एवं परीक्षापयोगी होगी।
धन्यवाद।
R F Temre
rfcompetition.com



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe